Sankalp kya hota hai|संकल्प कैसे करते है|Sankalp ka Matlab kya Hai

1
48
Sankalp kya hota hai ।। संकल्प कैसे करते है। साधना से पहले संकल्प करना क्यों जरुरी होता है।Sankalp Kaise Lena Chaahiye

आज के इस आर्टिकल में हम आपको जानकारी देने वाले हैं कि संकल्प क्या होता है।अगर आप यह जानना चाहते हैं कि संकल्प का मतलब क्या होता है अथवा संकल्प क्या होता है और संकल्प कैसे लिया जाता है, तो हमारा यह आर्टिकल आपके लिए सहायक साबित होगा।इस आर्टिकल में आप निम्न सवालों के जवाब प्राप्त करेंगे।

• संकल्प क्या होता है Sankalp kya Hota hai
• संकल्प का पौराणिक इतिहास क्या है Sankalp ka Itihass
• संकल्प कितने प्रकार के होते हैं Sankalp kitne prakar ke Hote Hai
• संकल्प मंत्र Sankalp Mantra in Hindi
• संकल्प का अर्थ Sankalp ki paribhasha
• संकल्प करने के लाभ Sankalp karne ke Laabh
• संकल्प से संबंधित महत्वपूर्ण जानकारी Sankalp ki Jankari
• संकल्प का मतलब क्या है Sankalp ka Matlab kya Hai

संकल्प क्या होता है Sankalp kya Hota hai What Is Sankalp in Hindi


जब कोई व्यक्ति किसी भी काम को करने के लिए पक्के मन से निर्णय कर लेता है तो उसे संकल्प कहा जाता है।हमारे हिंदू धर्म में किसी भी धार्मिक काम को स्टार्ट करने से पहले जैसे कि जप अनुष्ठान करने से पहले, पूजा पाठ करने से पहले, किसी भी प्रकार की सिद्धि को करने से पहले संकल्प लेना काफी ज्यादा इंपॉर्टेंट माना गया है और बिना संकल्प के की गई पूजा को अधूरी माना जाता है।

संकल्प का पौराणिक इतिहास Sankalp ka Itihas History of Sankalp


हिंदू धार्मिक ग्रंथों के अनुसार ऐसा कहा जाता है कि देवराज इंद्र को हमेशा इस बात का डर रहता है कि कोई उनसे उनका स्वर्ग का आसन ना छीन ले और इसी के कारण जब कोई व्यक्ति बिना संकल्प के कोई भी पूजा करता है, तो उसका सारा श्रेय देवराज इंद्र को ही जाता है,जिसके कारण व्यक्ति को अपनी पूजा का लाभ नहीं मिलता है। इसलिए संकल्प करके की गई पूजा ज्यादा अच्छी मानी जाती है।संकल्प करके की गई पूजा उस व्यक्ति को फलीभूत होती है, जो संकल्प करके पूजा करता है।

संकल्प कितने प्रकार के होते है Sankalp Kitne Prakar ke Hote Hai Types of Sankalp in Hindi


संकल्प कितने प्रकार के होते हैं इसके जवाब में हम आपको बता दें कि संकल्प दो प्रकार के होते हैं, जो निम्नानुसार है।

• साधारण संकल्प Sadharan Sankalp Normal Sankalp

साधारण संकल्प लेने के लिए आपको जिस किसी भी देवता अथवा देवी की पूजा करनी होती है उनकी फोटो के सामने बैठकर आपको सबसे पहले अपने हाथ में चावल और पानी लेना होता है। इसके बाद आपको देवी देवता का ध्यान करते हुए बोलना होता है कि हे देव मैं आपकी पूजा मेरी विभिन्न प्रकार की इच्छा की पूर्ति के लिए कर रहा हूं। इसके बाद आपको अपना नाम, गोत्र, अपने पिता का नाम और अपने जिले का नाम और अपने राज्य का नाम बोलना होता है और इसके बाद आपको चावल और जल को जिस देवता कि आप पूजा कर रहे हैं उनके चरणों में समर्पित कर देना होता है। इस प्रकार से आपका साधारण संकल्प संपूर्ण हो जाता है।

• विषेश संकल्प Visesh Sankalp Special Sankalp

विशेष संकल्प लेने के लिए आपको सबसे पहले सुपारी और मौली धागा से गणेश जी को निर्मित करना होता है। इसके अलावा आप चाहे तो गणेश जी की फोटो के सामने भी संकल्प ले सकते हैं। यह संकल्प आपको ब्राह्मण के द्वारा करवाया जाता है, क्योंकि इसमें विशेष संकल्प मंत्र का इस्तेमाल किया जाता है और गणेश भगवान को साक्षी मानकर संकल्प लिया जाता है।

इस प्रकार के संकल्प को करने के लिए सबसे पहले आपको अपने हाथ में चावल, दक्षिणा, फूल और जल लेना होता है और आपको यह कहना होता है कि गणेश भगवान जी मैं विभिन्न देवता की पूजा करना चाहता हूं और मैं आपको साक्षी बना रहा हूं। आप मेरी पूजा को बिना किसी भी समस्या के सफल बनाएं।

संकल्प मंत्र क्या है Sankalp Mantra kya Hai what is Sankalp Mantra

नीचे दिया गया मंत्र संकल्प मंत्र है, जिसका इस्तेमाल आप तब कर सकते हैं,जब आप विशेष संकल्प लें।

ॐ विष्णवे नम:, ॐ विष्णवे नम:, ॐ विष्णवे नम:। ॐ अध्य ब्रह्मणोह्रि द्वितीयपरार्धे श्रीश्वेतवाराहकल्पे ,वैवस्वतमन्वन्तरेष्टाविंशतितमे कलियुगे कलिप्रथमचरणे बौध्दावतारे भूर्लोके जम्बूद्वीपे भरतखण्डे भारतवर्षे ….क्षेत्रे, नगरे, ग्रामे….नाम-संवत्सरे….मासे (शुक्ल-कृष्ण) पक्षे…., तिथौ…., गोत्र:…., गुप्तोहम् प्रात: (मध्य-सायं) सर्वकर्मसु शुध्दयर्थ श्रुतिस्मृतिपुराणोक्तफलप्राप्त्यर्थं श्रीभगवत्प्रीत्यर्थ च अमुक कर्म करिष्ये।

संकल्प का अर्थ Sankalp ka Arth Sankalp Meaning in Hindi

संकल्प लेने का हिंदी में मतलब होता है कि हम अपने इष्ट देवता, कुल देवी देवता और खुद को साक्षी मानकर यह पूजा कर रहे हैं, जो हमारी इच्छाओं की पूर्ति के लिए हम कर रहे हैं और हम अपने संकल्प को अवश्य पूरा करेंगे। ऐसा करने से हमारे काम करने की शक्ति में बढ़ोतरी होती है।

संकल्प करने के लाभ Sankalp karne ke fayde Benifiets of Doing Sankalp

किसी भी धार्मिक काम को करने से पहले या फिर पूजा-पाठ को स्टार्ट करने से पहले अगर आप संकल्प लेते हैं,तो आपको उसका फल जल्दी मिलता है और आपका काम जल्दी हो जाता है। आपको अपने जाप और व्रत का पूरा फल संकल्प लेने के बाद मिलता है, क्योंकि आप जिस किसी भी भगवान को साक्षी मानकर संकल्प लेते हैं, वह आपकी पूजा के साक्षी हो जाते हैं। संकल्प एक प्रकार के लाइसेंस की तरह होता है, इसलिए हर पूजा में संकल्प लेना आवश्यक है।

महत्वपूर्ण जानकारी संकल्प से संबंधित Sankalp ki Jankari Information About Sankalp in Hindi

हमने आपको ऊपर जिस संकल्प मंत्र के बारे में जानकारी दी है वहां पर आपको कुछ बदलाव अवश्य करने हैं।जैसे जहां पर क्षेत्र या फिर नगर आता है वहां पर आपको अपने शहर अथवा गांव का नाम लेना है। इसके अलावा आपको मास के स्थान पर कौन सा महीना चल रहा है उसका नाम लेना है।

पक्ष की जगह पर आपको शुक्ल पक्ष या फिर कृष्ण पक्ष जो भी पक्ष चल रहा हो, उसका नाम लेना है। तिथि के स्थान पर कौन सी तारीख है,गोत्र के स्थान पर अपना गोत्र का नाम आपको लेना है। इसके अलावा जिस देवी देवता कि आप पूजा या फिर साधना कर रहे हैं, उसका नाम आपको लेना है।

Conclusion

हमें उम्मीद है कि अब आप यह जान गए होंगे कि Sankalp kya Hota Hai अथवा Sankalp Kise Kahte Hai और संकल्प कैसे लिया जाता है। अगर आपको Sankalp ka Arth पता चल गया हो तो आप संकल्प लेकर अपनी पूजा कर सकते हैं। अगर आपको Sankalp Kaise Liya Jata Hai इसके बारे में इंफॉर्मेशन प्राप्त करनी है तो आप कमेंट बॉक्स में अपना सवाल पूछ सकते हैं।हम जल्दी आपका रिप्लाई करेंगे।

1 COMMENT

  1. मुझे आपकी वैबसाइट बहुत पसंद आई। आपने काफी मेहनत की है। मैंने आपकी वैबसाइट को बुकमार्क कर लिया है। हमे उम्मीद है की आप आगे भी ऐसी ही अच्छी जानकारी हमे उपलब्ध कराते रहेंगे। अगर आप दिल्ली घूमने जा रहे है तो एक बार हमारी वैबसाइट को जरूर visit करे। इस वैबसाइट “ Delhi Capital India ” के माध्यम से हमने भी लोगो को दिल्ली की जानकारी देने की कोशिश की है। हो सके तो हमारी वैबसाइट को एक बैकलिंक जरूर दे। धन्यवाद ॥

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here